September 18, 2021

Aone Punjabi

Nidar, Nipakh, Nawi Soch

सेहत भिभाग ने जख्मी वियक्ति का इलाज करने से पहिले की क्रोना रिपोर्ट, पीडत की हुई मौत’ सेहत भिभाग ने वियक्ति को बतेया क्रोना पॉजिटिव..

1 min read

सांगरूर ज़िला में गांव खड़ियाल के एक वियक्ति को क्रोना पॉजिटिव करार दिया ओर उसे क्रोना से मरने वालों की लिष्ट में डाल दिया जबकि परिजनों के आरोप है कि हमारे मरीज का आवारा पशु से टकरा जाने से पेट की अंतड़ी फट गई थी और उसे ईलाज के लिए राजिंदरा हस्पताल  में लिजेया गेया था लेकिन वहाँ डॉक्टरों ने उसका ईलाज तो नही किया लेक़िन उसकी क्रोना टेस्ट में रिपोर्ट पॉजिटिव बताकर मीरतक करार दे दिया घर वालों का कहिना है कि हमारे मरीज को क्रोना नही था उन्हों ने मामले की जांच के नरोप लगाए,,,देखें रिपोर्ट

मामला दिड़बा हल्का के गांव खड़ियाल का है यहाँ 35 सालां भगवान सिंह का आवारा पशु से टकरा जाने के कारण पेट मे साईकल का हैंडल लगा ओर राजिंदर हस्पताल पटियाला में उसे क्रोना पॉजिटिव से मीरतक करार दे दिया जब कि परिजन मामले को शक की नजर से देख रहे है भगवान सिंह की विधवा पत्नी अब अपने मासूम बेटे को पीओ का वास्ता देकर रोती रोटी हालों बेहाल है ओर बुडी मां सिस्टम को लाहन्त देते लोगों को आगाह कर रही है कि कोई अपने बेटे को राजिंदरा हस्पताल में न ले जाएओ बार बार कहि के मेरे पुत्र को क्रोना नही था।

V/O परिजनों ने मामले कीएक्सीडेंट के बाद कुछ लोग भगवान सिंह को घर छोड़ गए और फ़िर हम उसे निज़ी हस्पताल ले गए उन्हों ने कहा कि पेट की अंतड़ी फट गई जिस कारण उन्हों ने राजिंदरा हस्पताल पटियाला ले गए यहाँ उन्हों ने दाखिल करने के वाद शमी 7 वजे ऑपरेशन करने को कहा लेक़िन उन्हों ने ईलाज शुरू करने से पहिले क्रोना रिपोर्ट करवाई जिसकी रिपोर्ट रात 11 वजे आई और भगवान सिंह को क्रोना पॉजिटिव करार दे दिया और उसे मीरतक घोषित कर दिया परिजनों के आरोप हैं कि भगवान सिंह को किसी किस्म का बुखार खासी या जुकाम आदि नही था और वो एक्सीडेंट समय बिल्कुल तंदरुस्त था भगवान सिंह ईलाज की कमी से मरा उसे क्रोना पॉजिटिव से मरना ग़लत रिपोर्ट है जबकि उसका एक्सीडेंट हुआ था और वो ईलाज की कमी से मरा है उन्हों ने मामले में डॉक्टरों को आरोपी बतेया ओर उनपर कई संगीन आरोप लगाए

उधर मिरतक भगवान सिंह रिश्तेदार सतपाल सिंह ने मामले को विस्तार पूर्वक बताते कहा कि हमारे लड़के को क्रोना नही था वी बिल्कुल तंदरूस्त था सिर्फ़ उसका एक्सीडेंट हुए था लेक़िन भगवान सिंह की मौत डॉक्टरों की लापरवाही ओर इलाज ना होने की बजह से हुई है सतपाल ने सरकारी सिस्टम ओर सरकार पर लाहन्त पाते कहा कि भगवान सिंह को चोट पेट मे लगी थी और ऑपरेट छाती पर किया हुआ था उन्होंने सेहत भिभाग पर तशकरी के इल्जाम भी लगाए।

क्रोना महामारी में सेहत भिभाग पर यह कोई पहिले इल्जाम नही हर दिन कही न कही कई प्रकार के इल्जाम लगते हैं जिसके मद्दे सरकार को सबक लेना और गहराई से जांच करनी चाहिए नही लोगों का सरकार और सेहत भिभाग से विस्वाश उठ जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed