May 11, 2021

Aone Punjabi

Nidar, Nipakh, Nawi Soch

36 साल के नौजवान की हस्पताल के बहार हुई मोत, 5 मिनट में दी डॉक्टर ने कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट..

1 min read

पंजाब में सेहत विभाग क्रोना को लेकर लापरवाही की तस्वीरे आये दिन सामने आ रही नया मामला कपूरथला सिविल अस्पताल से समन्धित जहां परिवार का आरोप कि वह अपने मरीज को आपातकालीन स्थिति में सिविल अस्पताल लाये थे जहां पर इलाज करने की बजाय उसे उनके मरीज को 5 मिन्ट में क्रोना पॉजिटिव करार दे दिया गया और इलाज के लिए रेफर कर दिया गया जिसकी जालंधर में एक निजी अस्पताल के बाहर मौत हो गयी वही इसी अस्पताल में एक ऐसा मरीज जो दो बार टेस्ट देने के बाद भी पिछले 20 दिनों से अपनी कोविड की रिपोर्ट लेने को तरस रहा ओर प्रशासन उसे एक बार फिर टेस्ट करवाने को कह रहा। 

पहली तस्वीर जो आप देख रहे यह गगन की है जिसकी उम्र 36 साल की है। 23 अगस्त को इसकी तबियत काफी बिगड़ने के कारण इसे सिविल अस्पताल कपूरथला में लेकर जाया गया जहां पर इसके लक्षण कोविड के होने के कारण अस्पताल में असटिंगेंट कोविड टेस्ट किया गया परिवारिक सदस्यों के मुताबिक ड्यूटी डॉक्टर ने इसे 5 मिनट बाद ही क्रोना पॉजिटिव बता दिया ओर उसे रेफेर कर दिया । रवि पाठक पत्रकार ने बताया कि गगन उनका भांजा है और वह हैरान थे कि 5 मिनेट इस कौन सा टेस्ट आ गया जो क्रोना पॉजिटिव बता देता वही उसको ले जाने के लिए न अस्पताल से एम्बुलेंस तक नही दी न ही 108 कि एम्बुकलेंस मिली वही मरीज को वह एक मंदिर की एम्बुलेंस में जालंधर ले कर गए जहां पर भी एक निजी अस्पताल ने बेड न होने का कह उन्हें आगे भेज दिया लेकिन अगले अस्पताल तक पहुंचते गगन की मौत हो गयी। 

दूसरी तस्वीर गगन के ही मोहल्ले में रहने वाले मनोज की है जिसके परिवार में छोटे बच्चे हैं। जिसने कोविड के लक्षण आने पर अपने ओर परिवार की सुरक्षा को देखते हुए 5 अगस्त को कोविड का टेस्ट करवाया था जिसकी रिपोर्ट बार बार चक्कर लगाने पर भी उसे नही मिली वही दूसरी बार उसने फिर से टेस्ट करवाया लेकिन 2 हफ्ते से ज्यादा का समय बीत जाने पर भी उसकी सुनने वाला कोई नही मनोज के मुताबिक अस्पताल स्टाफ उसे दोबारा टेस्ट करवाने के लिए बोला जा रहा । 

वही जब दोनों मामलों के बारे में डी सी दिप्ती उप्पल से फ़ोन नो9596611533 बात की गई तो उन्होंने यह कह के पल्ला झाड़ दिया उनके इस बारे में सेहत विभाग ने नही बताया ओर कैमरे पर आने से मना कर दिया।वही सी एम ओ डॉ जसमीत कौर ने भी फ़ोन न 7973283983 पर बात की तो उन्होंने भी सारे मामले की जानकारी न होने की बात कही और कैमरे के सामने आने से इनकार किया।। 

एक तरफ 5 मिनट में क्रोना टेस्ट रिपोर्ट और पॉजिटिव आने पर मरीज को रेफर करना और दूसरी तरफ कई दिन से भटक रहे मरीज को क्रोना टेस्ट रिपोर्ट भी नही देनी ओर बार बार टेस्ट देने के लिए कहना।यह दो तरफ पहलू है पंजाब सेहत विभाग का ऐसे में स्टेट में क्रोना मरीजो का भगवान ही मालिक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *