September 18, 2021

Aone Punjabi

Nidar, Nipakh, Nawi Soch

शतरंज खिलाड़ी कोनेरू हम्पी ने जीता BBC ISWOTY अवार्ड

1 min read

15 साल की उम्र में ग्रैंडमास्टर बनी थी कोनेरू। 

बीबीसी के डायरेक्टर जनरल टिम डेवी ने किया वर्चुअल अवार्ड का समारोह।

शतरंज खिलाड़ी इंटरनेशनल ग्रैंड मास्टर कोनेरू हम्पी बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमन ऑफ द ईयर अवॉर्ड के दूसरे संस्करण की विजेता बनी हैं। पब्लिक वोटिंग के आधार पर उन्हें सोमवार को विजेता घोषित किया गया है।

अवॉर्ड जीतने बाद कोनेरू हम्पी ने कहा, ‘यह अवॉर्ड बेहद कीमती है, न सिर्फ मेरे लिए बल्कि शतरंज से जुड़ी पूरी बिरादरी के लिए। शतरंज एक इनडोर गेम है इसलिए भारत में क्रिकेट की तरह इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता। लेकिन मुझे उम्मीद है कि इस अवॉर्ड के बाद शतरंज की ओर लोगों का ध्यान जाएगा।’

बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमन ऑफ द ईयर अवार्ड (BBC  ISWOTY) से भारत के उन खिलाड़ियों को सन्मानित किया जाता है जिन्होंने अपने अपने क्षेत्र में उन्नति प्राप्त की है । पुरस्कार का पहला एडिशन 2020 में हुआ था और पि वी सिंधु विजेता बनी थीं।

इस अवार्ड का नॉमिनेशन और सिलेक्शन अवार्ड ईयर के एक साल पहले जो खिलाड़ियों का प्रदर्शनज होता है उस पर आधारित है । इस में खेल पत्रकारों और विशेषज्ञों की एक जूरी बैठती है। इसमें 50 इंडियन स्पोर्ट्सवुमेन की लिस्ट तैयार जाती है जिनको जूरी मेंबर वोट देते हैं। इस लिस्ट में से 5 उन खिलाडियों का नॉमिनेशन के लिए सलेक्शन होता है जिनको सबसे ज्यादा वोट मिलती है। फिर इन प्रत्याशियों की BBC Websites के जरिये पब्लिक वोटिंग होती है। जिसकी सबसे ज्यादा वोटें हो उसको विजेता घोषित किया जाता है और बीबीसी इंडियन स्पोर्टवोमन ऑफ द ईयर की उपाधि मिलती है।

हम्पी वर्ल्ड रैपिड चेस चैंपियनशिप की मौजूदा विजेता हैं। इसके साथ ही वह केर्यन्स कप 2020 की भी विजेता हैं।

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि मैं वर्षों तक इसलिए जीतती रही कि मेरे अंदर इच्छाशक्ति और आत्मविश्वास है। एक महिला खिलाड़ी को कभी भी अपना खेल छोड़ने के बारे में नहीं सोचना चाहिए। शादी और मातृत्व जिंदगी का सिर्फ एक हिस्सा है। इसके लिए महिला खिलाड़ियों को अपनी जिंदगी की धारा नहीं मोड़ लेनी चाहिए।’

कोनेरू हम्पी का जन्म आंध्र प्रदेश में हुआ था। हम्पी की शतरंज प्रतिभा को उनके पिता ने बचपन में ही पहचान लिया था। 2002 में 15 साल की उम्र में ही ग्रैंड मास्टर बनकर उन्होंने अपनी प्रतिभा साबित कर दी। यह एक रिकार्ड था, जिसे 2008 में चीन की हाउ यीफैन ने तोड़ा था।

बीबीसी के डायरेक्टर जनरल टिम डेवी ने वर्चुअल अवॉर्ड समारोह की मेज़बानी की और विजेता के नाम का ऐलान किया।

उन्होंने कहा, ‘इस साल का बीबीसी इंडियन स्पोर्ट्सवुमन अवॉर्ड जीतने के लिए कोनेरू हम्पी को बहुत बधाई। कोनेरू ने शतरंज को अपना शानदार योगदान दिया है और वह तारीफ की वास्तविक हकदार हैं। मुझे खुशी है कि बीबीसी भारतीय महिला खिलाड़ियों की सफलता को मान्यता देने के काम की अगुआई कर रहा है।

फरवरी, 2021 में घोषित इस अवॉर्ड के लिए पांच भारतीय महिला खिलाड़ियों को नॉमिनेट किया गया था। ये थीं- धाविका दुती चंद, शतरंज चैंपियन कोनेरू हम्पी, शूटर मनु भाकर, पहलवान विनेश फोगाट और भारतीय महिला फील्ड हॉकी टीम की मौजूदा कप्तान रानी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed