May 20, 2022

Aone Punjabi

Nidar, Nipakh, Nawi Soch

कला किसी की मोताज नही होती जिसके लिए उमर व यू कहे पढ़ाई भी कोई मायने नही रखती

1 min read
बचपन से साहित्य पढ़ने में रूचि रखने वाले द्वारका भारती आज खुद साहित्य कार के रूप में जाने जाते है 10 पास भारती अब तक दस से अधिक पुस्तके लिख चुके है और एक उनकी अपनी आत्म कथा मोची है जिस पर पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के दो छात्र रिसर्च कर रहे है भारती पेशे से एक मोची है  । होशियारपुर स्तिथ नज़दीक मोहला सुभाष नगर की यह एक छोटी सी जूता बनाने वाली दुकान जिस में मोची का कार्य कर अपने परिवार का पेट 72 बर्षीय द्वारका भारती पालते है ।  द्वारका भारती को बचपन से सी साहित्य पढ़ने की लगन थी इस लगन ने उनको लेखक बना दिया आज उन्होंने अपनी 10 पुस्तके लिख कर साहित्य को अर्पण की है पेशे से चाहे वो मोची है लेकिन उनका मानना है की समाज में जो आप कार्य कर रहे है वो किसी वर्ग का विशेष नहीं है आज उनकी आत्म कथा मोची जिस पर पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ रिसर्च कर रही है वही इंधरा गाँधी ओपन यूनिवर्सिटी में उनकी लिखी कविता एमए पाठ कर्म में शामिल है उनका कहना है की बह  एक दलित साहित्य लिखने वाले एक छोटे से लिखारी है और वो अपनी सेवा समाज को देते रहेंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *